Shaam e Firaaq Aur Ghazal

Shaam e Firaaq Aur Ghazal

Shaam e Firaaq, Zakhm e Jigar Aur Ye Ghazal,
Yaadein Tumhari, Deeda e Tar Aur Ye Ghazal,
Jee Chahne Laga Hai, Karun Fir Se Tere Naam,
Ek Shaam Aur Ek Sher Aur Ye Ghazal.

शाम ए फिराक, ज़ख्म ए जिगर और ये गजल,
यादें तुम्हरी दीदा ए तार और ये गजल,
जी चाहने लगा है, करूँ फिर से तेरे नाम,
एक शाम और एक शेर और एक ये गजल।

Leave a Comment