Shama Ki Mehfil

Shama Ki Mehfil

Wo Shama Ki Mehfil Hi Kya,
Jisme Parvana Jal Kar Khaak Na Ho,
Maza To Tab Aata Hai Chahat Ka Mere Dost,
Jab Dil To Jale Magar Raakh Na Ho.

वो शमा की महफ़िल ही क्या,
जिसमे परवाना जल कर ख़ाक न हो,
मज़ा तो तब आता है चाहत का मेरे दोस्त,
जब दिल तो जले मगर राख न हो।

candle in hand

Shama Bujha Ke Raat Der Talak Mehfil Sajai Humne,
Main Apne Dil Ko Rota Raha Aur Yeh Dil Tere Liye.

शमा बुझा के रात देर तलक महफ़िल सजाई हमने,
मैं अपने दिल को रोता रहा और ये दिल तेरे लिए।

Wo Chand Hai Magar Aap Se Pyara To Nahin,
Parwane Ka Shama Ke Bin Gujara To Nahin,
Mere Dil Ne Suni Hai Ek Pyari Si Abaaz,
Kahin Mahfil Aapne Mujhe Pukara To Nahin.

वो चाँद है मगर आप से प्यारा तो नहीं,
परवाने का शमा के बिन गुजारा तो नहीं,
मेरे दिल ने सुनी है एक प्यारी सी आवाज़,
कहीं महफ़िल आपने मुझे पुकारा तो नहीं।

Leave a Comment