Shama Ko Jala Kar Roye

Shama Ko Jala Kar Roye

Kabhi Dil Ko Kabhi Shama Ko Jala Kar Roye,
Teri Yaad Ko Dil Se Lagakar Roye,
Raat Ki God Me Jab So Gayi Sari Duniya,
Chand Ko Teri Tashveer Bana Ker Hum Roye.

कभी दिल को कभी शमा को जला कर रोये,
तेरी याद को दिल से लगा कर हम रोये,
रात की गोद में जब सो गयी सारी दुनिया,
चाँद को तेरी तस्वीर बना कर हम रोये।

shama parwana shayari

Maut Ko Bhi Jeena Sikha Denge,
Bujhi Jo Shama Use Jala Denge,
Jis Din Hum Jayenge Duniya Se,
Ek Baar To Dushmano Ko Bhi Rula Denge.

मौत को भी जीना सिखा देंगे,
बुझी जो शमा उसे जला देंगे,
जिस दिन हम जाएंगे दुनिया से,
एक बार तो दुश्मनों को भी रुला देंगे।

Ye Shama Mehmaan Hai Do Ghadi Ki,
Shama Bujh Jayegi Tumse Juda Hone Kw Baad,
Kuch Bhi Kah Lo Haq Hai Tumhen,
Bas Ab Mar Jayenge Tumse Juda Hone Ke Baad.

ये शमा मेहमान है दो घडी की,
शमा बुझ जायेगी तुमसे जुदा होने के बाद,
कुछ भी कह लो हक़ है तुम्हें,
बस अब मर जायेंगे तुमसे जुदा होने के बाद।

Leave a Comment