Shart Hawaon Se Laga Rakhi

Shart Hawaon Se Laga Rakhi

Humne Ye Shaam Chirago Se Saja Rakhi Hai,
Aapke Intezar Me Palke Bichha Rakhi Hain,
Hawa Takra Rahi Hai Shama Se Baar Baar,
Aur Humne Shart In Hawaon Se Laga Rakhi Hai.

हमने ये शाम चिरागों से सजा रखी है,
आपके इंतजार में पलके बिछा रखी हैं,
हवा टकरा रही है शमा से बार-बार,
और हमने शर्त इन हवाओं से लगा रखी है।

Shart Hawaon Se Laga Rakhi Hai - Intezaar Shayari Hindi

Wo Rukhsat Hui To Aankh Mila Kar Gayi,
Wo Kyun Gai Yeh Bata Kar Nahin Gayi,
Lagta Hai Bapis Abhi Laut Aayegi,
Wo Jaate Hue Chirag Bujha Kar Nahin Gayi,

वो रुख्सत हुई तो आँख मिलाकर नहीं गई,
वो क्यों गई यह बताकर नहीं गई,
लगता है वापिस अभी लौट आएगी,
वो जाते हुए चिराग़ बुझाकर नहीं गई।

Leave a Comment