Shayar Samajh Baithe

Shayar Samajh Baithe

Hum Jale To Sab Chirag Samajh Baithe,
Jab Mehke To Sab Gulaab Samajh Baithe,
Mere Lafzo Ka Dard Kisi Ne Nahi Dekha,
Shayari Parhi To Shayar Samajh Baithe.

हम जले तो सब चिराग समझ बैठे,
जब महके तो सब गुलाव समझ बैठे,
मेरे लफ्जों का दर्द किसी ने नहीं देखा,
शायरी पड़ी तो शायर समझ बैठे।

Ud Raha Tha Dil Mera Parindon Ki Tarah,
Jo Teer Laga Dil Par To Koi Marham Na Mila,
Dekhna Tha Sitam Unke Prem Ki Adao Ka,
Ai Sanam Tere Jaisa To Koi Dushman Na Mila.

उड़ रहा था दिल मेरा परिंदों की तरह,
जो तीर लगा दिल पर तो कोई मरहम न मिला,
देखना था सितम उनके प्रेम की अदाओ का,
ऐ सनम तेरे जैसा तो कोई दुश्मन न मिला।

Raat Gumsum Hai Magar Chaand Khamosh Nahin,
Kaise Kah Doon, Main Aaj Hosh Me Nahin,
Main Dooba Is Kadar Teri Aankhon Ke Gahrai Me,
Ki Haath Me Jaam Hain, Magar Peene Ka Hosh Nahin.

रात गुमसुम है मगर चाँद खामोश नहीं,
कैसे कह दूँ, मैं आज होश में नहीं,
मैं डूबा इस कदर तेरी आँखों के गहराई में,
कि हाथ में जाम हैं, मगर पिने का होश नहीं।

Leave a Comment