Shayari from Movie : Jab Tak Hai Jaan

Shayari from Movie : Jab Tak Hai Jaan

Teri Aankhon Ki Namkeen Mastiyan
Teri Hansi Ki Be Parwaah Gustakhiyan
Teri Zulfon Ki Lehrati Angdaiyaan
Nahi Bhoolunga Main…
Jab Tak Hai Jaan, Jab Tak Hai Jaan

Tera Haath Se Haath Chhodna
Tera Saayon Ka Rukh Modna
Tera Palat Ke Phir Na Dekhna
Nahin Maaf Karoonga Main…
Jab Tak Hai Jaan, Jab Tak Hai Jaan

Baarishon Me Be-dhadak Tere Nachne Se
Baat Baat Pe Tere Bewajah Ruthne Se
Choti Choti Teri Bachkaani Badmashiyon Se
Mohabbath Karoonga Main…
Jab Tak Hai Jaan, Jab Tak Hai Jaan

Tere Jhoothe Kasme-Vaadon Se
Tere Jalte Sulagte Khwabo Se
Teri Beraham Duaon Se
Nafrat Karoonga Main…
Jab Tak Hai Jaan, Jab Tak Hai Jaan.

तेरी आँखों की नमकीन मस्तियाँ 
तेरी हंसी की बेपरवा गुस्ताखियाँ 
तेरी जुल्फों की लहराती अंगडाइयां 
नहीं भूलूंगा मैं…
जब तक है जान, जब तक है जान।
 
तेरा हाथ से हाथ छोड़ना
तेरा सायों का रुख मोड़ना 
तेरा पलट के फिर न देखना 
नहीं माफ़ करूंगा  मैं…
जब तक है जान, जब तक है जान।
 
बारिशों में  बेधड़क तेरे  नाचने से
बात-बात पर तेरे बेवजह रूठने से 
छोटी-छोटी तेरी बच्कानियों से 
मोहब्बत करूंगा मैं…
जब तक है जान, जब तक है जान।
 
तेरे झूठे कसमों-वादों से
तेरे जलते-सुलगते ख्वाबों से
तेरी बेरहम दुआओं से
नफ़रत करूँगा मैं…
जब तक है जान, जब तक है जान।

Leave a Comment