Shayari from Movie : Kabhie-Kabhie

Shayari from Movie : Kabhie-Kabhie

Kabhi Kabhi Mere Dil Me Khayal Aata Hai,
Ke Zindagi Tumhare Julfo Ki
Narm Chhanv Me Gujarne Paati,
To Shadab Ho Bhi Sakti Thi.

कभी कभी मेरे दिल में ख्याल आता है,
के ज़िन्दगी तुम्हारे जुल्फों की 
नरम छाव में गुजरने पाती,
तो सादाब हो भी सकती थी। 

Ye Ranjo-Gam Ki Syaahi
Jo Mere Zeest Ka Muqaddar Hai,
Tere Nazar Ke Shuao Mein
Kho Bhi Sakti Thi.

ये रंजो गम की स्याही
जो मेरे जीस्त का मुकद्दर है,
तेरे नजर के शुओं में
खो भी सकती थी। 

Magar Ab Ye Aalam Hai Ki Tu Nahi
Tera Gam Teri Justju Bhi Nahi,
Gujar Rahi Hai Kuchh Isa Tarah Se Zindagi Jaise
Ise Kisi Ke Sahare Ki Aarju Bhi Nahi.

मगर अब ये आलम है कि तू नहीं
तेरा गम तेरी जुस्तजू भी नहीं,
गुजर रही है कुछ इस तरह से ज़िन्दगी जैसे 
इसे किसी के सहारे की आरजू नहीं। 

Leave a Comment