Shayari from Movie : Raaz

Shayari from Movie : Raaz

Garmie-Hasrat-e-Nakaam Se Jal Jaate Hain,
Hum Chiragon Ki Tarah Shaam Se Jal Jaate Hain,
Shama Jis Aag Me Jalti Hai Numaish Ke Liye,
Hum Usi Aag Me Gumnaam Se Jal Jaate Hai,
Jab Bhi Aata Hai Tera Naam Mere Naam Ke Saath,
Jaane Kyun Log Mere Naam Se Jal Jaate Hain.

गर्मी-हसरत-ए-नाकाम से जल जाते हैं,
हम चिरागों की तरह शाम से जल जाते हैं,
शमा जिस आग में जलती है नुमाइश के लिए,
हम उसी आग में गुमनाम से जल जाते हैं,
जब भी आता है तेरा नाम मेरे नाम के साथ,
जाने क्यों लोग मेरे नाम से जल जाते हैं। 

Saare Jahan Ka Dard Sametkar,
Jab Kudrat Se Kuch Na Ban Saka
To Usne Tumhari Ye Do Aankhein Bana Di.

सारे जहाँ का दर्द समेटकर,
जब कुदरत से कुछ न बन सका,
तो उसने तुम्हारी ये दो आँखें बना दी।

Leave a Comment