Shayari from Movie : Sarfarosh

Shayari from Movie : Sarfarosh

Sarfarosh Movie Shayari

Hosh Walon Ko Khabar Kya Bekhudi Kya Cheej Hai,
Ishq Keeje Fir Samjhiye Zindagi Kya Cheej Hai.
Unse Najrein Kya Mili Roshan Fizayein Ho Gayin,
Aaj Jana Pyar Ki Jadoogari Kya Cheej Hai.

होश वालों को खबर क्या बेखुदी क्या चीज है,
इश्क खीजे फिर समझिये ज़िन्दगी क्या चीज है,
उनसे नजरें क्या मिली रोशन फिजायें हो गईं,
आज जाना प्यार की जादूगरी क्या चीज है।

Phool Khilte Hain Baharon Ka Sama Hota Hai,
Aise Mausam Me Hi To Pyar Jawan Hota Hai.
Dil Ki Baton Ko Hothon Se Nahi Kehte,
Ye Fasaana To Nigahon Se Bayan Hota Hai.

फूल खिलते हैं बहारों का समा होता है,
ऐसे मौसम में ही तो प्यार जवां होता है,
दिल की बातों को होठों से नहीं कहते,
ये फ़साना तो निगाहों से बयाँ होता है।

Milte Hi Nazarein Dil Milaya Nahi Jata,
Aagaz Ko Anjaam Banaya Nahi Jata.

मिलते ही नज़रे दिल मिलाया नहीं जाता,
आगाज़ को अंजाम बनाया नहीं जाता ।

Dawa Bhi Kaam Na Aaye Koi Dua Na Lage,
Mere Khuda Kisiko Pyar Ki Hawa Na Lage.

दावा भी काम न आये कोई दुआ न लगे,
मेरे खुदा किसी को प्यार की हवा न लगे। 

Khulti Zulfon Ne Sikhayi Mausamo Ko Shayari,
Jhukti Aakhon Ne Bataya Maiqasi Kya Cheej Hai.
Hum Labo Se Keh Na Paye Unse Haal-e-Dil Kabhi,
Aur Wo Samjhe Nahi Ye Khamoshi Kya Cheej Hai.

खुलती जुल्फों ने सिखाई मौसमो को शायरी,
झुकती आंखों ने बताया मैसकी क्या चीज है,
हम लबों से कह न पाए उनसे हाल-ए-दिल कभी,
और वो समझे नहीं ये खामोशी क्या चीज़ है।

Leave a Comment