Sheeshe Sa Dil Apna

Sheeshe Sa Dil Apna

Ek Ajeeb Sa Manjar Nazar Aata Hai,
Har Ek Aansu Samandar Nazar Aata Hai,
Kahaan Rakhun Main Sheeshe Sa Dil Apna,
Har Ek Haath Me Patthar Nazar Aata Hai.

एक अजीब सा मंजर नजर आता है,
हर एक आँसू समंदर नजर आता है,
कहाँ रखूं मैं शीशे सा दिल अपना,
हर एक हाथ में पत्थर नजर आता है।

Sheeshe Sa Dil Apna - Dil Shayari

Aap Se Roj Milne Ko Jee Chahta Hai,
Kuchh SunNe Sunaane Ko Jee Chahta Hai,
Tha Aapke Manaane Ka Andaaz Aisa,
Ke Phir Ruthh Jane Ko Jee Chahta Hai.

आपसे रोज़ मिलने को दिल चाहता है​​,​
​कुछ सुनने सुनाने को दिल चाहता है​​,​
​था आपके मनाने का अंदाज़ ऐसा​​,​
​कि फिर रूठ जाने को दिल चाहता है​।

Tu Hi Bata Dil Tujhe Samjhaun Kaise,
Jise Chahta Hai Tu Use Najdeek Laaun Kaise,
Yun Toh Har Tamanna Har Ehsaas Hai Woh Mera,
Magar Usko Yeh Ehsaas Dilaaun Kaise.

तू ही बता दिल कि तुझे समझाऊं कैसे,
जिसे चाहता है तू उसे नज़दीक लाऊँ कैसे,
यूँ तो हर तमन्ना हर एहसास है वो मेरा,
मगर उसको ये एहसास दिलाऊं कैसे।

Leave a Comment