Shokh Nigahon Ka Majra

Shokh Nigahon Ka Majra

Kya Puchhte Ho Shokh Nigaahon Ka Majra,
Do Teer The Jo Mere Jigar Me Utar Gaye.

क्या पूछते हो शोख निगाहों का माजरा,
दो तीर थे जो मेरे जिगर में उतर गए।

Aankhein Shayari, Shokh Nigahon Ka Majra

Tumhari Pyar Bhari Nigaahon Ko Dekhkar
Hume Kuchh Aisa Guman Hota Hai,
Dekho Na Mujhe Is Kadar Madhosh Najaro Se,
Ki Dil Beimaan Hota Hai.

तुम्हारी प्यार भरी निगाहों को देखकर
हमें कुछ ऐसा गुमान होता है,
देखो ना मुझे इस कदर मदहोश नज़रों से
कि दिल बेईमान होता है।

Nigahon Par Nigaahon Ke Pahre Hote Hain,
In Nigahon Ke Ghao Bhi Itne Gahre Hote Hain,
Na Jaane Kyu Koste Hain Log Deewane Ko,
Barbaad Karne Wale To Wo Haseen Chehre Hain.

निगाहों पर निगाहों के पहरे होते हैं,
इन निगाहों के घाव भी इतने गहरे होते हैं,
न जाने क्यों कोसते हैं लोग दीवानों को,
बर्बाद करने बाले तो वो हसीन चेहरे होते हैं।

Leave a Comment