Sidiyan Unhe Mubarak Hon

Sidiyan Unhe Mubarak Hon

Sidiyan Unhe Mubarak Hon,
Jinhe Sirf Chhat Tak Jana Hai,
Meri Manjil To Aasmaan Hai,
Rasta Mujhe Khud Banana Hai.

सीढियाँ उन्हें मुबारक हों,
जिन्हे सिर्फ छत तक जाना है,
मेरी मंज़िल तो आसमान है,
रास्ता मुझे खुद बनाना है।

Hausle Buland Kar Raston Par Chal De
Tujhe Teri Manjil Mil Jaayegi,
Badh Kar Akela Tu Pahal Kar
Dekhakar Tujhe Kaafila Ban Jaayega.

हौसले बुलंद कर रास्तों पर चल दे
तुझे तेरी मंजिल मिल जायेगी,
बढ़ कर अकेला तू पहल कर
देखकर तुझे काफिला बन जायेगा।

Shaam Sooraj Ko Dhalna Sikhati Hai,
Shama Parvane Ko Jalna Sikhati Hai,
Girne Wale Ko Hoti To Hai Takleef,Par
Thokar Hi Insaan Ko Chalna Sikhati Hai.

शाम सूरज को ढ़लना सिखाती है,
शमा परवाने को जलना सिखाती है,
गिरने वाले को होती तो है तकलीफ,पर
ठोकर ही इंसान को चलना सिखाती है।

Leave a Comment