Sirf Kismat Me Nahi

Sirf Kismat Me Nahi

Wo Dil Me Hai Dhadkan Me Hai Rooh Me Hai,
Sirf Kismat Me Nahi To Khuda Se Gila Kaisa.

वो दिल में है धड़कन में है रूह में है,
सिर्फ किस्मत में नहीं तो खुदा से गिला कैसा।

Udaas Kar Gayi… Aaj Ki Subah Bhi Mujhe,
Jaise Bhula Raha Ho Koi Aahista-Aahista.

उदास कर गई… आज की सुबह भी मुझे,
जैसे भुला रहा हो कोई आहिस्ता-आहिस्ता।

Zakhm Taaza Ho To Ruk Ruk Ke Kasak Hoti Hai,
Yaad Gahari Ho To Tham Tham Ke Qaraar Aata Hai.

ज़ख्म ताज़ा हो तो रुक रुक के कसक होती है,
याद गहरी हो तो थम थम के क़रार आता है।

Bechainiyaan Bajaar Me, Nahin Mila Karti Yaron,
Bantne Wala… Koi Bahut Nazadeeki Hota Hai.

बेचैनियां बाजार में, नहीं मिला करती यारों,
बाँटने वाला… कोई बहुत नज़दीकी होता है।

Leave a Comment