Sitamgar Nahi Badla Jata

Sitamgar Nahi Badla Jata

Mausam Ki Tarah Badal Dete Hai Log Humsafar Apna,
Humse To Apna Sitamgar Bhi Nahi Badla Jata.

मौसम की तरह बदल देते हैं लोग हमसफ़र अपना,
हमसे तो अपना सितमगर भी नहीं बदला जाता।

Sad Shayari - Sitamgar Nahi Badla

Sirf Do Hi Gawaah The Meri Wafa Ke, Ek Wakt,
Aur Ek Wo, Ek Guzar Gaya Aur Ek Mukar Gaya.

सिर्फ़ दो ही गवाह थे मेरी वफ़ा के, एक वक्त,
और एक वो, एक गुज़र गया और एक मुकर गया।

Peene Ko To Pee Jaun Zahar Bhi Uske Hatho Se Main,
Par Shart Ye Hai Ki Girte Waqt Wo Apni Bahon Me Sambhale Mujhko.

पीने को तो पी जाऊं ज़हर भी उसके हाथो से मैं,
पर शर्त ये है की गिरते वक़्त वो अपनी बाहों में संभाले मुझको।

Mana Ke Gham Ke Baad Milti Hain Muskurahtein,
Lekin Jiyega Kaun, Teri Berukhi Ke Baad.

माना कि ग़म के बाद मिलती है मुस्कराहटें,
लेकिन जियेगा कौन, तेरी बेरुखी के बाद।

Leave a Comment