So Ja Aye Dil

So Ja Aye Dil

So Ja Aye Dil Ki Ab Bahut Dhundh Hai Shahar Mein Tere,
Apne Dikhte Nahi Aur Jo Dikhte Hain Woh Apne Nahi.

सो जा ऐ दिल कि अब बहुत धुन्ध है शहर में तेरे,
अपने दिखते नहीं और जो दिखते हैं वो अपने नहीं।

Leave a Comment