Supurd-e-Khak Hun

Supurd-e-Khak Hun

Ab Supurd-e-Khak Hun Mujhko Jalana Chhod De,
Qabr Par Meri Tu Uske Saath Aana Chhod De,
Ho Sake Gar Tu Khushi Se Ashq Peena Seekh Le,
Ya Tu Aankhon Me Apni Kajal Lagana Chhod De.

अब सुपुर्द-ए-खाक हूँ मुझको जलाना छोड़ दे,
कब्र पर मेरी तू उसके साथ आना छोड़ दे,
हो सके गर तू खुशी से अश्क पीना सीख ले,
या तू आँखों में अपनी काजल लगाना छोड़ दे।

Shola Tha Jal Bujha Hun, Hawaen Mujhe Na Do,
Main To Kab Ka Ja Chuka Hun, Sadaayen Mujhe Na Do,
Wo Zahar Bhi Pi Chuka Hun, Jo Tumne Mujhe Diya Tha,
Aa Gaya Maut Ke Aagosh Mein Zindagi Ki Duaen Ab Na Do.

शोला था जल बुझा हूँ, हवाएं मुझे न दो,
मैं तो कब का जा चुका हूँ, सदायें मुझे न दो,
वो ज़हर भी पी चुका हूँ, जो तुमने मुझे दिया था,
आ गया मौत के आग़ोश में ज़िंदगी की दुआएं अब न दो।

Dard Se Ab Ham Khelana Seekh Gaye,
Ham Bewafai Ke Saath Jeena Seekh Gaye,
Kya Bataen Kis Kadar Dil Toota Hai Mera,
Maut Se Pahle, Kafan Odh Kar Sona Seekh Gaye

दर्द से अब हम खेलना सीख गए,
हम बेवफाई के साथ जीना सीख गए,
क्या बताएं किस कदर दिल टूटा है मेरा,
मौत से पहले, कफ़न ओढ़ कर सोना सीख गए।

Leave a Comment