Taaza Hain Zakhm

Taaza Hain Zakhm

Ab Bhi Taaza Hain Zakhm Mere Seene Mein,
Bin Tere Kya Rakha Hai Zindagi Jeene Mein,
Hum To Zinda Hain Tera Sath Paane Ko Bas,
Warna Der Kitni Lgti Hai Zehar Peene Mein.

अब भी ताज़ा हैं ज़ख्म मेरे सीने में,
बिन तेरे क्या रखा है ज़िन्दगी जीने में,
हम तो जिंदा हैं तेरा साथ पाने को बस,
वरना देर कितनी लगती है ज़हर पीने में।

Leave a Comment