Talluq Ho To Rooh Se

Talluq Ho To Rooh Se

Agar Talluq Ho To Rooh Se Rooh Ka Ho,
Dil To Aksar Ek Dusare Se Bhar Jate Hain.

अगर ताल्लुक हो तो रूह से रूह का हो,
इल तो अक्सर एक दूसरे से भर जाते हैं।

Badlenge Nahin Zazbaat Mere Tareekhon Ki Tarah,
Bepanah Ishq Karne Ki Khwaahish Umr Bhar Rahegi.

बदलेंगे नहीं ज़ज़्बात मेरे तारीखों की तरह,
बेपनाह इश्क़ करने की ख्वाहिश उम्र भर रहेगी।

Wo Chupke Se Zaroor Aaenge Milne Mujhse,
Hakeekat Me Nahin To Sapne Me Hi Sahi.

वो चुपके से ज़रूर आएंगे मिलने मुझसे,
हकीकत में नहीं तो सपने में ही सही।

Khuda Ka Shukr Hai Ki Khwaab Bana Diye,
Varna Tumhen Dekhne Ki To Bas Hasrat Hi Rah Jaati.

खुदा का शुक्र है कि ख्वाब बना दिये,
वरना तुम्हें देखने की तो बस हसरत ही रह जाती।

Leave a Comment