Tere Gam Me Kya Gujarti Hai

Tere Gam Me Kya Gujarti Hai

Najar Naaj Najron Me Jee Nahi Lagta,
Fiza Gayi To Baharo Me Jee Nahi Lagta,
Na Poochh Mujhse Tere Gam Me Kya Gujarti Hai,
Yahi Kahunga Hazaro Me Jee Nahi Lagta.

नज़र नवाज़ नज़रों में ज़ी नहीं लगता,
फ़िज़ा गई तो बहारों में ज़ी नहीं लगता,
ना पूछ मुझसे तेरे ग़म में क्या गुजरती है,
यही कहूंगा हज़ारों में ज़ी नहीं लगता।

gham shayari

Gam Me Hansne Walo Ko Kabhi Rulaya Nahi Jata,
Lahron Se Paani Ko Hataya Nahi Jata,
Hone Wale Ho Jate Hain Khud Hi Dil Se Juda,
Kisi Ko Jabrjasti Dil Me Basaya Nahi Jata,

ग़म में हँसने वालों को कभी रुलाया नहीं जाता,
लहरों से पानी को हटाया नहीं जाता,
होने वाले हो जाते हैं खुद ही दिल से जुदा,
किसी को जबर्दस्ती दिल में बसाया नहीं जाता।

Chand Taaron Ka Noor Aap Par Barse,
Har Koi Aap Ki Chahat Ko Tarse,
Apki Zindagi Me Aaye Khushiyan,
Ki Aap Ek Gham Paane Ko Tarse.

चाँद तारों का नूर आप पर बरसे,
हर कोई आप की चाहत को तरसे,
आप की ज़िंदगी में आएं इतनी खुशियाँ,
कि आप एक ग़म पाने को तरसें।

Leave a Comment