Tere Hijr Ki Barsaat

Tere Hijr Ki Barsaat

Main Tere Hijr Ki Barsaat Me Kab Tak Bheegun,
Aise Mausam Me To Deewarein Bhi Gir Jati Hain.

मैं तेरे हिज्र की बरसात में कब तक भीगूँ,
ऐसे मौसम में तो दीवारे भी गिर जाती हैं।

Barish Aur Mohabbat Dono Hi Yaadgar Hote Hain,
Barish Me Jism Bheegta Hai Aur Mohabbat Me Aankhen.

बारिश और मोहब्बत दोनो ही यादगार होते हैं,
बारिश में जिस्म भीगता है और मोहब्बत में आँखें।

Leave a Comment