Teri Kalam Ne Tarasha

Teri Kalam Ne Tarasha

Dil Se Mahsoos Kar Sakte Hain Uss Dard Ko,
Jo Teri Kalam Ne Ek Ek Karke Tarasha Hai.

दिल से महसूस कर सकते हैं उस दर्द को,
जो तेरी कलम ने एक एक करके तरासा है।

Dard Bhari Shayari -Teri Kalam Ne Tarasa Hai

Dard Se Hamari Agar Dosti Na Hoti,
Shabd Hote Magar Unmein Shayari Na Hoti.

दर्द से हमारी अगर दोस्ती न होती,
शब्द होते मगर उनमें शायरी न होती।

Ye Kalam Bhi Kambakht Bahut Diljali Hai,
Jab Jab Mujhe Dard Hua Ye Khoob Chali Hai.

ये कलम भी कमबख्त बहुत दिलजली है,
जब जब मुझे दर्द हुआ ये खूब चली है।

Na Rok Kalam, Mujhe Dard Likhne De,
Aaj To Dard Royega, Ya Dard Dene Wala.

ना रोक कलम, मुझे दर्द लिखने दे,
आज तो दर्द रोयेगा, या दर्द देने वाला।

Jiske Liye Likhta Hun Main Dil Se Aajkal,
Wo Kahti Hai Achchha Likhte Ho Unko Sunaungi.

जिसके लिए लिखता हूँ मैं दिल से आजकल,
वो कहती है अच्छा लिखते हो उनको सुनाऊंगी।

Leave a Comment