Tod Do Khamoshi

Tod Do Khamoshi

Tadap Rahe Hai Ham Tumse Ek Alfaaz Ke Liye,
Tod Do Khamoshi Hame Zinda Rakhne Ke Liye.

तड़प रहे है हम तुमसे एक अल्फाज के लिए,
तोड़ दो खामोशी हमें जिन्दा रखने के लिए।

Khamoshiyan Yun Hi Bebajah Nahi Hoti,
Kuch Dard Bhi Abaj Chheen Liya Karte Hain.

खामोशीयाँ यूं ही बेवजह नहीं होतीं,
कुछ दर्द भी आवाज़ छीन लिया करतें हैं।

Shor Karte Raho Tum Surkhiyon Me Aane Ka,
Humari To Khamoshiyan Bhi Ek Akhbaar Hai.

शोर करते रहो तुम…सुर्ख़ियों में आने का
हमारी तो खामोशियाँ भी एक अखबार है।

Jahan Me Kuchh Sawal Zindagi Ne Aise Bhi Chhode Hain,
Jinaka Jawab Hamare Paas Sirf ‪Khamoshi‬ Hai

जहन में कुछ सवाल जिंदगी ने ऐसे भी छोङे हैं,
जिनका जवाब हमारे पास सिर्फ ‘‪खामोशी‬’ है

Meri Khamoshi Dekhkar Mujhse Ye Zamana Bola,
Teri Sanzeedgi Batati Hai Tujhe Hansne Ka Shauq Tha Kabhi.

मेरी खामोशी देखकर मुझसे ये ज़माना बोला,
तेरी संज़ीदगी बताती है तुझे हँसने का शौक़ था कभी।

Leave a Comment