Tujhe Gajal Bana Kar

Tujhe Gajal Bana Kar

Teri Sadgi Ko Niharne Ko Dil Karta Hai,
Tamam Umr Tere Naam Karne Ko Dil Karta Hai,
Ek Mukammal Shayari Hai Tu Kudrat Ki,
Tujhe Gajal Bana Kar Juban Par Lane Ko Dil Karta Hai.

तेरी सादगी को निहारने का दिल करता है,
तमाम उम्र तेरे नाम करने को दिल करता है,
एक मुक़्क़मल शायरी है तू कुदरत की,
तुझे ग़ज़ल बना कर जुबां पर लाने को दिल करता है।

Leave a Comment