Tum Aaj Saqi Bane

Tum Aaj Saqi Bane

Tum Aaj Saqi Bane Ho
To Shahar Pyasa Hai,
Humare Daur Me Khaali
Koi Gilas Na Tha.

तुम आज साकी बने हो
तो शहर प्यासा है,
हमारे दौर में खाली
कोई गिलास न था।

Umr Bhar Bhi Agar Sadaen Den,
Beet Kar Waqt Phir Nahin Marte,
Sochkar Todna Inhen Saqi,
Tootkar Jaam Phir Nahin Judte.

उम्र भर भी अगर सदाएं दें,
बीत कर वक़्त फिर नहीं मरते,
सोचकर तोड़ना इन्हें साक़ी,
टूटकर जाम फिर नहीं जुड़ते।

Saqi Or Pila Ki Peene Pilane Ki Raat Hai,
Pee Pee Ke Aaj Hosh Me Na Aane Ki Raat Hai,
La Maikhada Undel De Jane Sharab Me,
Maine Suna Hai , Pyas Bujhane Ki Raat Hai.

साक़ी ओर पिला की पीने पिलाने की रात है,
पी पी के आज होश में न आने की रात है,
ला मैखादा उंडेल दे जाने शाराब में,
मैंने सुना है, प्यास बुझाने की रात है।

Leave a Comment