Tum Samajh Paao

Tum Samajh Paao

Kaash Ke Tum Samajh Paao Meri Chahat Ki Inteha Ko,
Hairan Reh Jaoge Tum Apni Khush Naseebi Par.

काश के तुम समझ पाओ मेरी चाहत की इन्तहा को,
हैरान रह जाओगे तुम अपनी खुश नशीबी पर।

Kaash Shayari, Kaash Ke Tum Samajh Paao

Kaash Ye Mohabbat Khwaab Si Hoti,
Bas Aankhe Khulti Aur Kissa Khatam.

काश ये मोहब्बत ख्वाब सी होती,
बस आँखे खुलती और किस्सा खत्म।

Main Hansta Hun To Bas Apne Gham Chhipane Ke Liye,
Aur Log Kahte Hain Kaash… Hum Bhi Iske Jaise Hote,

मैं हँसता हूँ तो बस अपने गम छिपाने के लिए,
और लोग कहते हैं काश हम भी इसके जैसे होते।

Kash Koi Ek Raat Aisi Bhi Aa Jaye,
Neend Aa Jaye Par Teri Yaad Na Aaye.

काश कोई एक रात ऐसी भी आ जाये,
नींद आ जाये पर तेरी याद न आये।

Kaash Koi Mile Is Tarh Ke Fir Juda Na Ho,
Wo Samjhe Mere Mijaj Ko Aur Kabhi Khafa Na Ho.

काश कोई मिले इस तरह के फिर जुद़ा ना हो,
वो समझे मेरे मिज़ाज़ को औऱ कभी खफ़ा ना हो ।

Leave a Comment