Tumne Zulfon Ko Bahut

Tumne Zulfon Ko Bahut

Chhed Aati Hain Kabhi Lab Ko Kabhi Rukhsaro Ko,
Tumne Zulfon Ko Bahut Sar Chada Rakha Hai.

छेड़ आती हैं कभी लब को कभी रुक्सारों को,
तुमने जुल्फों को बहुत सर चड़ा रखा है।

Tumne Zulfon Ko Bahut - Zulf Shayari

Ye Laali Ye Kajal, Ye Zulfen Bhi Khuli-Khuli
Tum Yun Hi Jaan Maang Leti Itna Intjaam Kyu Kiya ?

ये लाली ये काजल, ये जुल्फें भी खुली-खुली
तुम यूँ ही जान मांग लेती इतना इंतजाम क्यूँ किया ?

Aap Ki Naazuk Kamar Par Bojh Padta Hai,
Bahut Badh Chale Hain Gesu Kuchh Inhen Kam Kijiye

आप की नाज़ुक कमर पर बोझ पड़ता है बहुत,
बढ़ चले हैं गेसू कुछ इन्हें कम कीजिए।

Leave a Comment