Unki Aankho Se

Unki Aankho Se

Saaqi Dekh Zamane Ne Kaisi Tohmat Lagayi Hai
Aankhen Teri Nashili Hain Sharabi Mujhe Kehte Hain

साकी देख ज़माने ने कैसी तुहमत लगायी है,
आँखें तेरी नशीली हैं शराबी मुझे कहते हैं।

Jo Unki Aankho Se Bayaan Hote Hain,
Wo Lafz Shayari Me Kahan Hote Hain.

जो उनकी आँखों से बयान होते हैं,
वो लफ्ज शायरी में कहाँ होते हैं ।

Unki Aankhon Se, Aankhen Shayari

Ye Aankhin Hai Jo Tumhari Kisi Ghazal Ki Tarha Khubsurat Hai,
Koi Padh Le Inhen Agar Jo Ek Dafa To Shayar Ho Jaye.

ये आँखें हैं जो तुम्हारी किसी ग़ज़ल की तरह खुबसूरत हैं,
कोई पढ़ ले इन्हें एक जो दफा तो शायर हो जाए।

Khuda Jane Mera Kya, Bajan Hai Unki Nighahon Mein,
Suna Hai Aadmi Ko Ek Najar Mein Tol Lete Hain.

खुदा जाने मेरा, क्या वजन है उनकी निगाहों में
सुना है आदमी को एक नजर में तोल लेते हैं।

Leave a Comment