Unljha Hai Paav

Unljha Hai Paav

Unljha Hai Paav Yaar Ka Zulf-e-Daraz Me,
Lo Aap Apne Jaal Me Sayyad Aa Gaya.

उलझा है पाँव यार का ज़ुल्फ़-ए-दराज़ में,
लो आप अपने जाल में सय्याद गया।

Ye Raat Ki Tanhayi Aur Zikr Teri Zulfon Ka,
Kya Khoob Jaise Raat Bhi Qaid Thi Teri Zulfon Ke Tale.

ये रात की तन्हाई और ज़िक्र तेरी जुल्फों का,
क्या खूब जैसे रात भी क़ैद थी तेरी जुल्फों के तले।

Teri Har Ik Shaam Ko Mai Bana Doon Rangeen Shaam,
Julphon Se Khelne Ki Gar Mujhe Ijaajat De De.

तेरी हर इक शाम को मै बना दूँ रंगीन शाम,
जुल्फों से खेलने की गर मुझे इजाजत दे दे।।

Teri Zulfon Se Nazar Mujhse Hatai Na Gayi,
Nam Aankhon Se Palak Mujhse Girayi Na Gai.

तेरी जुल्फों से नज़र मुझसे हटाई न गई,
नम आँखों से पलक मुझसे गिराई न गई।

Leave a Comment