Uski Yaad Me Bewafa

Uski Yaad Me Bewafa

‘Faraz’ Bewafa Shayari

Uske Chehre Par Is Kadar Noor Tha,
Ki Uski Yaad Me Rona Bhi Manjoor Tha,
Bewafa Bhi Nahi Kah Sakte Usko ‘Faraz’,
Pyar To Humne Kiya Hai Wo To Bekasoor Tha.

उसके चेहरे पर इस कदर नूर था,
कि उसकी याद में रोना भी मंज़ूर था,
बेवफ़ा भी नहीं कह सकते उसको ‘फराज़’,
प्यार तो हमने किया है वो तो बेक़सूर था।

Kisi Bewafa Ki Khatir Ye Junun ‘Faraz’ Kab Tak,
Jo Tumhen Bhula Chuka Hai Use Tum Bhi Bhool Jao.

किसी बेवफ़ा की ख़ातिर ये जुनूँ ‘फ़राज़’ कब तक,
जो तुम्हें भुला चुका है उसे तुम भी भूल जाओ।

Ab Mayoos Kyun Ho Uss Ki Bewafai Pe Faraz,
Tum Khud Hi To Kehte The Ki Wo Sabse Juda Hai.

अब मायूस क्यों हो उस कि बेवफाई पे फ़राज़,
तुम खुद ही तो कहते थे कि वो सबसे जुदा है।

Leave a Comment