Usne Chaha Hi Nahi

Usne Chaha Hi Nahi

Hum To Maujood The Raat Me Ujalon Ki Tarah,
Log Nikle Hi Nahi Dhoondhne Walon Ki Tarah,
Dil To Kya Hum Rooh Me Bhi Utar Jaate,
Usne Chaha Hi Nahi Chahne Walon Ki Tarah.

हम तो मौजूद थे रात में उजालों की तरह​,
लोग निकले ही नहीं ​ढूंढने वालों की तरह​,
दिल तो क्या हम रूह में भी उतर जाते​,
उस ने चाहा ही नहीं चाहने वालों की तरह​।

Hadso Ke Gawah Ham Bhi Hain,
Apne Dil Se Tabaah Ham Bhi Hain,
Jurm Ke Bina Saza-E-Maut Mili,
Aise Begunaah Ham Bhi Hain.

हादसो के गवाह हम भी है,
अपने दिल से तबाह हम भी है,
जुर्म के बिना सज़ा-ए-मौत मिली,
ऐसे बेगुनाह हम भी है।

Tera Haath Pakad Kar Tujhe Rok Lete,
Agar Tujh Par Thoda Sa Zor Hota Mera,
Na Rote Ham Yun Tere Liye Agar,
Hamari Zindagi Me Koi Aur Hota.

तेरा हाथ पकड़ कर तुझे रोक लेते,
अगर तुझ पर थोड़ा सा ज़ोर होता मेरा,
ना रोते हम यूँ तेरे लिए अगर,
हमारी ज़िन्दगी में कोई और होता।

Leave a Comment