Wafa Ke Takaaje

Wafa Ke Takaaje

Teri Wafa Ke Takaaje Badal Gaye Varna,
Mujhe To Aaj Bhi Tujhse Azeez Koi Nahi.

तेरी वफ़ा के तकाजे बदल गये वरना,
मुझे तो आज भी तुझसे अजीज कोई नहीं।

girl siting near sea

Wo Paani Ki Lahron Par Kya Likh Raha Tha,
Khuda Jaane Haraf-E-Duaa Likh Raha Tha,
Mohobbat Me Mili Thi Bewafai Use Bhi Sayed,
Isliye Har Shakhs Ko Bewafa Likh Raha Tha.

वो पानी की लहरों पे क्या लिख रहा था,
खुदा जाने हरफ-ऐ-दुआ लिख रहा था,
महोब्बत में मिली थी बेवफाई उसे भी शायद,
इसलिए हर शख्स को शायद बेवफा लिख रहा था।

Na Jane Kya Soch Kar Lahre Sahil Se Takrati Hain,
Aur Fir Samandar Me Laut Aati Hain,
Samajh Nahi Aata Ki Kinaron Se Bewafai Karti Hain,
Ya Fir Laut Kar Samandar Se Wafa Nibhati Hain.

ना जाने क्या सोच कर लहरें साहिल से टकराती हैं,
और फिर समंदर में लौट जाती हैं,
समझ नहीं आता कि किनारों से बेवफाई करती हैं,
या फिर लौट कर समंदर से वफ़ा निभाती हैं।

Bewafa To Khud Hai,
Par Ilzaam Kisi Aur Ko Dete Hain,
Pahle Naam Tha Mera Unke Labo Par,
Ab Wo Naam Kisi Aur Ka Lete Hain.

बेवफा तो वो खुद हैं,
पर इल्ज़ाम किसी और को देते हैं,
पहले नाम था मेरा उनके लबों पर,
अब वो नाम किसी और का लेते हैं।

Leave a Comment