Wo Alfaz Parhte Hain

Wo Alfaz Parhte Hain

Meri Shayari Ka Asar Un Par Ho Bhi To Kaise Ho?
Ke Main Ehsaas Likhta Hun Wo Alfaz Parhte Hain.

मेरी शायरी का असर उन पर हो भी तो कैसे हो ?
के मैं अहसास लिखता हूँ वो अल्फाज़ पड़ते हैं।

Wo Alfaz Parhte Hain Shayari

Leave a Comment