Wo Dor Tooti Bar Bar

Wo Dor Tooti Bar Bar

Heart Touching Sad Poetry

Barson Ki Jaan Pehchan Thi Ek Roj Usne Tod Di,
Hoshiyar Hum Bhi Kam Nahi Umeed Hamne Chhod Di.

Ganthh Padi Hai Kis Tarah Ye Baat Hai Kuchh Iss Tarah,
Wo Dor Tooti Bar Bar Har Bar Hamne Jod Di.

Usne Kaha Kaise Ho Tum Bas Maine Lab Khole Hi The,
Aur Baat Duniya Ki Taraf Jaldi Se Usne Mod Di.

बरसों की जान पहचान थी एक रोज उसने तोड़ दी,
होशियार हम भी कम नहीं उम्मीद हमने छोड़ दी।

गाँठ पड़ी है किस तरह ये बात है कुछ इस तरह,
वो दूर टूटी बार बार हर बार हमने जोड़ दी।

उसने कहा कैसे हो तुम बस मैंने लब खोले ही थे,
और बात दुनिया की तरफ जल्दी से उसने मोड़ दी।

Leave a Comment