Wo Zakhm Kaise Dikhayein

Wo Zakhm Kaise Dikhayein

Wo Naraj Hain Humse Ke Hum Kuchh Likhte Nahi,
Kahan Se Layein Lafz Jab Humko Milte Nahi,
Dil Ki Jubaan Hoti To Bata Dete Shayad,
Wo Zakhm Kaise Dikhayein Jo Dikhte Hi Nahi.

वो नाराज हैं हमसे के हम कुछ लिखते नहीं,
कहाँ से लायें लफ्ज़ जब हमको मिलते नहीं,
दिल की जुबान होती तो बता देते शायद,
वो जख्म कैसे दिखायें जो दिखते ही नहीं।

Leave a Comment