Woh Ashq Ban Ke

Woh Ashq Ban Ke

Woh Ashq Ban Ke Meri Chasm-E-Tar Me Rahta Hai,
Ajeeb Shakhs Hai Paani Ke Ghar Me Rahta Hai.

वो अश्क बन के मेरी चश्म-ए-तर में रहता है,
अजीब शख़्स है पानी के घर में रहता है।

Woh Ashq Ban Ke - Aansu Shayari Hindi

Leave a Comment