Yaad Aati Hai Maa

Yaad Aati Hai Maa

Rooh Ke Rishto Ki Yeh Gehraiyan To Dekhiye,
Chot Lagti Hai Humein Aur Chillati Hai Maa,
Hum Khushiyon Mein Maa Ko Bhale Bhi Bhool Jayein,
Jab Musibat Aa Jaye Toh Yaad Aati Hai Maa.

रूह के रिश्तों की ये गहराइयाँ तो देखिये,
चोट लगती है हमें और चिल्लाती है माँ,
हम खुशियों में माँ को भले ही भूल जायें,
जब मुसीबत आ जाए तो याद आती है माँ।

Leave a Comment