Yaad Shayari, Teri Yaad Mahek Gayi

Yaad Shayari, Teri Yaad Mahek Gayi

Tujhe Bhoolne Ki Koshishen Kabhi Kamyaab Na Ho Saken,
Teri Yaad Shaakh-E-Gulab Hai, Jo Hawa Chali To Mahak Gayi.

तुझे भूलने की कोशिशें कभी कामयाब न हो सकें,
तेरी याद शाख-ऐ-गुलाब है, जो हवा चली तो महक गयी।

teri yaad

Kar Raha Tha Gham-e-Jahan Ka Hisaab,
Aaj Tum Yaad Aaye To Be-Hisaab Aaye.

कर रहा था ग़म-ए-जहान का हिसाब,
आज तुम याद आये तो बे-हिसाब आये।

Na Chahkar Bhi Mere Hotho Par Ye Fariyaad Aa Jati Hai,
Ai Chand Samne Na Aa Kisi Ki Yaad Aa Jati Hai.

न चाहकर भी मेरे होठो पर ये फ़िरयाद आ जाती है,
ऐ चाँद सामने न आ किसी की याद आ जाती हैं।

Tumhari Yaad Ke Phoolo Ko Murjhane Nahi Denge Hum,
Hamne Apni Aankhen Rakhi Hain Use Paani Dene Ke Liye.

तुम्हारी याद के फूलो को मुरझाने नहीं देंगे हम,
हमने अपनी आँखे रखी हैं उसे पानी देने के लिए।

Ajeeb Logo Ka Basera Hai Tere Sahar Me,
Gurur Me Mit Jaate Hain Par Yaad Nahi Karte.

अजीब लोगों का बसेरा है तेरे शहर में,
ग़ुरूर में मिट जाते हैं पर याद नहीं करते।

boy crying

Leave a Comment