Yaadon Ke Chiraag, Yaadein Shayari

Yaadon Ke Chiraag, Yaadein Shayari

Ab Bujha Do Yeh Sisakte Huye Yaadon Ke Chiraag,
Inse Kab Hijr Ki Raaton Mein Ujala Hoga.

अब बुझा दो ये सिसकते हुए यादों के चराग,
इनसे कब हिज्र की रातों में उजाला होगा।

girl with lamp

Aati Hai Aise Bichhde Huye Doston Ki Yaad,
Jaise Chiraag Jalte Hon Raaton Ko Gaaon Mein.

आती है ऐसे बिछड़े हुए दोस्तों की याद,
जैसे चराग जलते हों रातों को गांव में।

Kis Jagah Rakh Dun Main Teri Yaadon Ke Charag,
Ki Roshan Bhi Rahun Aur Hatheli Bhi Na Jale.

किस जगह रख दूँ मैं, तेरी यादों के चराग़ को
कि रौशन भी रहूँ और हथेली भी ना जले।

girl missing someone

Woh Apni Zindgi Mein Ho Gaye Masroof Itne,
Kis Kis Ko Bhool Gaye Ab Unhein Bhi Yaad Nahi.

वो अपनी जिंदगी में हो गए मसरूफ इतने,
किस किस को भूल गए अब उन्हें भी याद नहीं।

Mausam Ki Pahli Baris Ka Shauk Tumhein Hoga,
Hum Toh Roj Kisi Ki Yaad Mein Doobe Rahte Hain.

मौसम की पहली बारिश का शौक तुम्हें होगा,
हम तो रोज किसी की यादो मे भीगें रहते है।

Ham To Ro Bhi Nhin Sakte Uski Yaad Me…
Usne Ek Bar Kaha Tha, Meri Jaan Nikal Jayegi,
Tere Aansu Girne Se Pahle.

हम तो रो भी नहीं सकते उसकी याद में…
उसने एक बार कहा था,मेरी जान निकल जाएगी,
तेरे आंसू गिरने से पहले।

Ye To Jante The Ki Kabhi Na Bhoolenge Tumhe,
Par Is Kadar Yaad Rah Jaoge Is Baat Par Hairan Hun.

ये तो जानते थे कि कभी नहीं भूलेंगे तुम्हें,
पर इस कदर याद रह जाओगे इस बात पर हैरान हूँ।

Leave a Comment