Ye Khayal Aaye

Ye Khayal Aaye

Kaash… Unko Kabhi Fursat Me Ye Khayal Aaye,
Ki Koi Yaad Krta Hai Unhe Zindagi Samjhker.

काश … उनको कभी फुर्सत में ये ख्याल आए,
कि कोई याद करता है उन्हें जिंदगी समझकर।

Kaash Shayari, Kaash Unko Kabhi Fursat

Kaash Wo Bhi Aakar Hum Se Kah De Main Bhi Tanha Hun,
Tere Bin, Teri Tarah, Teri Kasam, Tere Liye.

काश वो भी आकर हम से कह दे मैं भी तन्हाँ हूँ,
तेरे बिन, तेरी तरह, तेरी कसम, तेरे लिए।

Kaash Ek Khwaahish Poori Ho Ibaadat Ke Bagair,
Tum Aakar Gale Laga Lo Mujhe Meri Izazat Ke Bagair.

काश एक ख़्वाहिश पूरी हो इबादत के बगैर,
तुम आकर गले लगा लो मुझे मेरी इज़ाज़त के बगैर।

Leave a Comment