Yehan Libaas Ki Keemat

Yehan Libaas Ki Keemat

Yehan Libaas Ki Keemat Hai Aadmi Ki Nahi,
Mujhe Gilaas Bade De Sharaab Kam Kar De.

यहाँ लिबास की क़ीमत है आदमी की नहीं,
मुझे गिलास बड़े दे शराब कम कर दे।

Meri Jubaan Ke Mausam Badalte Rahte Hain,
Main To Aadmi Hun Mera Aitbaar Mat Karna.

मेरी जबान के मौसम बदलते रहते हैं,
मैं तो आदमी हूँ मेरा ऐतबार मत करना।

Is Daur Me Insan Ka Chehra Nahin Milta,
Kab Se Main Naqabon Ko Tahen Khol Raha Hoon.

इस दौर में इंसान का चेहरा नहीं मिलता
कब से मैं नक़ाबों की तहें खोल रहा हूँ।

Isiliye To Yahan Ab Bhi Ajnabi Hoon Main
Tamam Log Farishte Hain Aadmi Hoon Main.

इसीलिए तो यहाँ अब भी अजनबी हूँ मैं
तमाम लोग फ़रिश्ते हैं आदमी हूँ मैं।

Leave a Comment