Zakhm Bahut Diye

Zakhm Bahut Diye

Zakhm Bahut Diye Hain Usne
Mere Dil e Naadan Ko,
Zakhm Hum Bhi De Dete Par
Hume Intekam Achha Nahi Lagta.

जख्म बहुत दिए हैं उसने
मेरे दिल ए नादान को,
ज़ख्म हम भी दे देते पर
हमे इन्तेक़ाम अच्छा नहीं लगता।

Ye Wafa Ki Sakht Raahen
Ye Tumhare Paaon Nazuk,
Na Lo Intekaam Mujhse
Mere Saath Saath Chal Ke.

ये वफ़ा की सख़्त राहें
ये तुम्हारे पाँव नाज़ुक,
न लो इन्तेक़ाम मुझसे
मेरे साथ साथ चल के।

Leave a Comment