Zakhm Shayari, Ishthare-Zakhm

Zakhm Shayari, Ishthare-Zakhm

Apni Soorat Pe Lagata Raha Main Ishthare-Zakhm,
Jisko Padh Ke Chaand Jalta Raha Raat Bhar Tanha,
Mujhse Roothna Hai To Chhod De Akela Mujhko,
Ai Zindagi, Mera Din Va Din Tamasha Na Banaya Kar.

अपनी सूरत पे लगाता रहा मैं इश्तहारे-जख्म,
जिसको पढ़ के चांद जलता रहा रात भर तन्हा,
मुझसे रूठना है तो छोड़ दे अकेला मुझको,
ऐ ज़िन्दगी, मेरा दिन व दिन तमाशा न बनाया कर।

Zakhm Shayari - Isthare Zakhm

Zara Dekh Aakar Teri Khaatir
Ham Kis Tarah Se Jiye,
Aansuon Ke Dhaage Se Seete Rahe Ham
Jo Zakhm Toone Diye.

ज़रा देख आकर तेरी खातिर
हम किस तरह से जिए,
आंसुओं के धागे से सीते रहे हम
जो जख्म तूने दिए।

Khaamosh Chehre Par Hajaar Pahare Hote Hain,
Muskurati Aankhon Mein Bhi Zakhm Gahare Hote Hain,
Jinse Aksar Naaraaj Hote Hain Ham,
Asal Mein Unse Hi Rishte Gahre Hote Hain.

खामोश चेहरे पर हजार पहरे होते हैं,
मुस्कुराती आंखों में भी जख्म गहरे होते है,
जिनसे अक्सर नाराज होते हैं हम,
असल में उनसे ही रिश्ते गहरे होते है।

Leave a Comment