Zakhmo Ki Dava Shayari

Zakhmo Ki Dava Shayari

Galat Kahte Hain Log Ki Safed Rang Main Vafa Hoti Hai,
Aisa Hota To Aaj Namak Zakhmo Ki Dava Hota.

गलत कहते हैं लोग की सफेद रंग मै वफा होती है,
ऐसा होता तो आज नमक जख्मो की दवा होता।

Ai Ishq Mujhko Kuchh Aur Zakhm Chaahiye,
Ab Meri Shayari Mein Vo Baat Nahin Rahee.

ए इश्क मुझको कुछ और जख्म चाहिये,
अब मेरी शायरी में वो बात नहीं रही।

Jitne Bhi Zakhm The Sabko Sahlaane Aaye Hain,
Vo Maashuk Khanjar Ke Sahare Marham Lagane Aaye Hain.

जितने भी जख्म थे सबको सहलाने आये हैं,
वो माशुक खंजर के सहारे मरहम लगाने आये हैं।

Aaj Phir Zakhmon Par Namak Daala Gaya Hai,
Phir Mudda Tera-Mera Aaj Uchhala Gaya Hai.

आज फिर जख्मों पर नमक डाला गया है,
फिर मुद्दा तेरा-मेरा आज उछाला गया है।

Alfaaz Nahi Hain Aaj Mere Paas Mahafil Mein Sunaane Ko,
Khair Koi Baat Nahi, Zakhmon Ko Hi Kured Deta Hoon.

अल्फाज नही हैं आज मेरे पास महफिल में सुनाने को,
खैर कोई बात नही, जख्मों को ही कुरेद देता हूँ।

Zakhm To Ham Bhi Apne Dil Mein Tumse Gahare Rakhte Hain,
Magar Ham Zakhmon Pe Muskurahaton Ke Pahare Rakhte Hain.

जख्म तो हम भी अपने दिल में तुमसे गहरे रखते हैं,
मगर हम जख्मों पे मुस्कुराहटों के पहरे रखते हैं।

Leave a Comment