Zameer Jag Hi Jaata Hai

Zameer Jag Hi Jaata Hai

Zameer Jag Hi Jaata Hai Agar Zinda Ho Iqbal,
Kabhi Gunaah Se Pehle To Kabhi Gunaah Ke Baad.

ज़मीर जाग ही जाता है अगर ज़िन्दा हो इक़बाल,
कभी गुनाह से पहले तो कभी गुनाह के बाद।

Insaniyat To Maine Aaj Blod Bank Me Dekhi Thi,
Khoon Ki Botlon Par Majhab Likha Nahi Hota.

इंसानियत तो मैंने आज ब्लड बैंक में देखी थी,
खून की बोतलों पर मजहब लिखा नही होता।

Gharon Pe Naam The Naamo Ke Saath Ohade The,
Bahut Talash Kiya Koi Insaan Na Mila.

घरों पे नाम थे नामों के साथ ओहदे थे,
बहुत तलाश किया कोई इन्सान न मिला।

Jo Bhi Aapse Jhuk Ke Jo Milta Hoga,
Uska Kad Aapse Ooncha Hoga.

जो भी आपसे झुक के जो मिलता होगा,
उसका कद आपसे ऊंचा होगा।

Leave a Comment