Zid Ke Pakke Hain Hum

Zid Ke Pakke Hain Hum

Anjaam Ki Parwah Hoti To,
Hum Mohabbat Karna Chhod Dete,
Mohabbat Me To Zid Hoti Hai,
Aur Zid Ke Bade Pakke Hain Hum.

अंजाम की परवाह होती तो,
हम मोहब्बत करना छोड़ देते,
मोहब्बत में तो जिद होती है,
और जिद के बड़े पक्के हैं हम।

Apni Mohabbat Ke Liye Aashiyana Badal Denge,
Dil Ne Chaha To Fasana Badal Denge,
Are Duniya Walo Tumhari Hasti Hi Kya Hai,
Jarurat Padi To Sara Jamana Badal Dengen.

अपनी मोहब्बत के लिए आशियाना बदल देंगे,
दिल ने चाहा फ़साना बदल देंगे,
अरे दुनिया वालो तुम्हारी हस्ती ही क्या है,
जरुरत पड़ी तो सारा जमाना बदल देंगें।

Leave a Comment