Zikr Chala Bewafai Ka

Zikr Chala Bewafai Ka

Tujhe Hai Mashq-e-Sitam Ka Malaal Waise Hi,
Humari Jaan Hain Jaan Par Wabaal Waise Hi.
Chala Tha Zikr Zamaane Ki Bewafai Ka,
To Aa Gaya Hai Tumhara Khayal Waise Hi.

तुझे है मशक़-ए-सितम का मलाल वैसे ही,
हमारी जान है जान पर बबाल वैसे ही,
चला था जिक्र जमाने की बेवफ़ाई का,
तो आ गया है तुम्हारा ख्याल वैसे ही।

bewafa shayari

Koi Bhi Nahin Yahan Apna Hota,
Is Duniya Ne Hi Sikhaya Hai Humko,
Uski Bewafaii Ka Na Charcha Karna,
Aaj Dil Ne Ye Samjhaya Hai Humko

कोई भी नहीं यहाँ पर अपना होता,
इस दुनिया ने ये सिखाया है हमको,
उसकी बेवफाई का ना चर्चा करना,
आज दिल ने ये समझाया है हमको।

Sab Kuch Hai Mere Pas Par Dil Ki Dawa Nahi,
Door Hai Wo Mujhse Par Main Usse Khafa Nahi,
Maloom Hai Ki Wo Ab Bhi Pyar Karta Hai Mujhse,
Wo Thoda Sa Ziddi Hai Magar Bewafa Nahi.

सब कुछ है मेरे पास पर दिल की दवा नहीं,
दूर है वो मुझसे पर मैं उससे ख़फ़ा नहीं,
मालूम है कि वो अब भी प्यार करता है मुझसे,
वो थोड़ा सा ज़िद्दी है मगर बेवफ़ा नहीं।

Leave a Comment