Zinda Dafnaya Na Hota

Zinda Dafnaya Na Hota

Vaade To Hajaron Kiye The Usne Mujhse,
Kaash Ek Vaada Hi Usne Nibhaya Hota,
Maut Ka Kisko Pata Ki Kab Ayegi,
Par Kaash Usne Zinda Dafnaya Na Hota.

वादे तो हजारों किये थे उसने मुझसे,
काश एक वादा उसने निभाया होता,
मौत का किसको पता कि कब आएगी,
पर काश उसने जिंदा दफनाया न होता।

Maut Shayari - Zinda Dafnaya Na Hota

Meri Maut Ke Sabab Aap Bane,
Is Dil Ke Rab Aap Bane,
Pahle Misaal The Wafa Ki,
Jaane Yun Bewafa Kab Aap Bane.

मेरी मौत के सबब आप बने,
इस दिल के रब आप बने,
पहले मिसाल थे वफ़ा की,
जाने यूँ बेवफ़ा कब आप बने।

Leave a Comment