Zindadil Zindagi

Zindadil Zindagi

Zindadili Hoti Hai Zindagi,
Ishq Me Ghuli Hoti Hai Zindagi,
Tumse Milne Ki Tamnna Rakhti Hai Zindagi,
Lekin Takdeer… Nahin Milne Deti Zindagi.

ज़िंदादिली होती है जिन्दगी,
इश्क मे घुली होती है जिन्दगी,
तुमसे मिलने कि तमन्ना रखती है जिन्दगी,
लेकिन तक़दीर नही मिलने देती है जिन्दगी।

Na Chhed Kissa Wo Ulphat Ka,
Badi Lambi Yah Kahani Hai,
Hare Nahin Ham Apni Zindagi Se,
Yah To Kisi Apne Ki Meharbani Hai.

ना छेड़ क़िस्सा वो उल्फत का,
बड़ी लम्बी यह कहानी है,
हारे नहीं हम अपनी ज़िन्दगी से,
यह तो किसी अपने की मेहरबानी है।

Zindagi Bhi Kamaal Ki Hai,
Tu Gareebo Ko Mahal Ke Sapane Dikhati Hai,
Jis Me Ameero Ko Neend Nahin Aati.

ज़िन्दगी भी कमाल की है,
तू गरीबो को महल के सपने दिखाती है,
जिस में अमीरो को नींद नहीं आती।

Leave a Comment