Zindagi Bhi Tu Kahan

Zindagi Bhi Tu Kahan

Aaram Se Tanha Kat Rahi Thi To Achhi Thi,
Zindagi Tu Bhi Kahan Dil Ki Baton Me Aa Gayi.

आराम से तन्हा कट रही थी तो अच्छी थी,
ज़िन्दगी तू भी कहाँ दिल की बातों में आ गयी।

Ai Zindagi Tujh Par Mera Jor Kyu Nahin Chalta,
Kyu Har Cheej Parai Di Hai Toone Mujhe.

ऐ जिन्दगी तुझ पर मेरा जोर क्यों नहीं चलता,
क्यों हर चीज पराई दी है तूने मुझे।

Zindagi Roothi Hai Kisi “Bachche” Ki Tarah,
Kabhi Kuchh Mangti Hai Kabhi Kuchh Aur Mangati Hai.

ज़िन्दगी रूठी है किसी “बच्चे” की तरह,
कभी कुछ मांगती है कभी कुछ और मांगती है।

Nekiyan Kharidi Hain Hamne Apni Shoharten Giravi Rakhkar,
Kabhi Fursat Me Milna Ai Zindagi Tera Bhi Hisaab Kar Denge.

नेकियाँ खरीदी हैं हमने अपनी शोहरतें गिरवी रखकर,
कभी फुर्सत में मिलना ऐ ज़िन्दगी तेरा भी हिसाब कर देंगे।

Leave a Comment