Zindagi Ek Khwaab Hai, Life Shayari

Zindagi Ek Khwaab Hai, Life Shayari

Zindagi Ek Khoobasoorat Khwaab Hai,
Jismein Jeene Ki Khwahish Honi Chahiye,
Gam Khud Hi Khushiyon Mein Badal Jayenge,
Sirf Muskurane Ki Aadat Honi Chahiye.

ज़िन्दगी एक खूबसूरत ख़्वाब है,
जिसमें जीने की ख्वाहिश होनी चाहिये,
ग़म खुद ही खुशियों में बदल जायेंगे,
सिर्फ मुस्कुराने की आदत होनी चाहिये।

Wahi Ranjishen Wahi Hasraten,
Na Hi Dard-E-Dil Mein Kami Hui,
Hai Ajeeb Si Meri Zindagi,
Na Guzar Saki…. Na Khatm Hu.

वही रंजिशें वही हसरतें,
न ही दर्द-ए-दिल में कमी हुई,
है अजीब सी मेरी ज़िन्दगी,
न गुज़र सकी…. न खत्म हुई।

Kal Ek Jhalak Zindagi Ko Dekha,
Vo Raahon Pe Meri Gunguna Rahi Thi,
Phir Dhoondha Use Idhar Udhar,
Vo Aankh Michauli Kar Muskura Rahi Thi,
Ek Arse Ke Baad Aaya Mujhe Qaraar,
Vo Sahla Ke Mujhe Sula Rahi Thi,
Ham Donon Kyu Khafa Hain Ek Doosre Se,
Main Use Aur Vo Mujhe Samajha Rahi Thi,
Maine Poochh Liya Kyu Itna Dard Diya Kamabakht Tune,
Vo Hansi Aur Boli Main Zindagi Hoon Pagle
Tujhe Jeena Sikha Rahi Thi.

कल एक झलक ज़िंदगी को देखा,
वो राहों पे मेरी गुनगुना रही थी,
फिर ढूँढा उसे इधर उधर,
वो आँख मिचौली कर मुस्कुरा रही थी,
एक अरसे के बाद आया मुझे क़रार,
वो सहला के मुझे सुला रही थी,
हम दोनों क्यूँ ख़फ़ा हैं एक दूसरे से,
मैं उसे और वो मुझे समझा रही थी,
मैंने पूछ लिया क्यों इतना दर्द दिया कमबख़्त तूने,
वो हँसी और बोली मैं ज़िंदगी हूँ पगले,
तुझे जीना सिखा रही थी।

Leave a Comment